पुलिस की न दोस्ती अच्छी और न दुश्मनी अच्छी

कुशीनगर उत्तर प्रदेश: शराब तस्करों से सांठगांठ कर मोटी कमाई करने वाली जिले के पटहेरवा पुलिस के कारनामों ने बुजुर्गों की वह फलसफा ” पुलिस की न दोस्ती अच्छी और न दुश्मनी अच्छी।” कहावत को चरितार्थ कर दिया है। मतलब यह कि पटहेरवा थाने के एसआई पीएन सिंह ने पत्रकार शम्भू सिंह की दोस्ती का ऐसा सिला दिया कि अपना और अपने जमातियो का दामन बचाने के लिए पत्रकार को शराब तस्कर बनाकर जेल भेजवा दिया। सूबे के ईमानदार व यशस्वी मुख्यमंत्री के राज्य मे एक निर्दोष कलमकार को पुलिस द्वारा जेल भेजे जाने के मामले मे पुलिस महकमा की जहा चहुहोर थू-थू हो रही वही खाकी के इस कारनामे से योगी सरकार की छिछालेदर भी कम नही हो रही है। ऐसे मे यह कहना गलत नही होगा कि पटहेरवा पुलिस सरकार की छवि बिगाड़ने मे कोई कसर नही छोडना चाहती है काबिलेगोर है कि पुलिस कप्तान से लगायत सूबे के हुक्मरान पुलिस की छवि सुधारने के लिए जनता-पुलिस समन्वय स्थापित करने के लिए लगातार प्रयास कर रहे है वही जनपद के पटहेरवा पुलिस दोस्ती और विश्वास का गला घोटकर पुलिस की फिरंगियों वाली अपनी पुरानी छवि को बरकरार रखकर समाज मे खौफ कायम करने मे जुटी हुई है। कहना ना होगा कि तस्करो से सांठगांठ को लेकर हमेशा विवादो मे रहने वाली पटहेरवा पुलिस की इस नई करतूत ने खाकी की दामन पर बदनामी का एक और तमगा पेवन लगा दिया है। पुलिस शराब तस्करों व विभाग के आस्तीन मे छिपे सपोलो के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय एक पत्रकार को ही तस्कर साबित कर अपनी पीठ थपथपा रही है। चर्चा-ए-सरेआम है कि जितनी तत्परता से पुलिस ने एक पत्रकार को तस्कर बनाकर जेल भेजी है उतनी ही तत्परता से पुलिस अपने विभाग के उस मठाधीश के खिलाफ कार्रवाई करती जिसके आवास से शराब की पेटी बरामद हुई थी तो शायद आज खाकी की शान मे कसीदे गढे जाते।
गौरतलब है कि बीते दिनो मंगलवार को पटहेरवा बाजार मे इस बात की चर्चा जोरो पर रही कि पटहेरवा थाने के दरोगा के आवास से स्वाट टीम ने उस समय बड़ी मात्रा में शराब बरामद पकडा था जब वहा दरोगा और पत्रकार दोनो मौजूद थे। चूकि शराब खाकी के आवास से खाकी ने बरामद किया जिसका पत्रकार शम्भू सिंह चश्मदीद था। लिहाजा मौके की नजाकत को देखते हुए स्वाट टीम ने अपने उपर के अधिकारियों को मामले की जानकारी देते हुए खाकी को दागदार होने से बचाने के लिए पल भर मे नयी स्क्रीप्ट लिख डाली। ऐसा आम लोगो मे चर्चा है। चर्चा यह भी है कि स्वाट टीम उपनिरीक्षक व मुशी को हिरासत मे लेना चाहती थी लेकिन थाने के बडे साहब की ऊची पहुच के वजह से स्वाट टीम की एक न चली। इस बात मे कितनी सच्चाई है यह तो जांच के बाद ही स्पष्ट होगा। लेकिन उसके बाद पुलिस ने जो कहानी गढा उसमे पीएन सिंह के साथ उनके आवास पर बैठे पत्रकार शम्भू सिंह शराब तस्कर बन गये, जिसका खुलासा पत्रकार ने तरयासुजान मे आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान सार्वजनिक किया था। इस दौरान एक वरिष्ठ पत्रकार ने पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाते हुए निर्दोष पत्रकार को फर्जी तरीके से शराब तस्कर बनाये जाने का खुला विरोध भी किया था लेकिन किसी जिम्मेदार ने उस वरिष्ठ पत्रकार की एक न सुनी, ऐसा प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है। बताया जाता है कि दरोगा के आवास से बरामद किये गये शराब को तरयासुजान पुलिस ने अपने क्षेत्र से बरामदगी दिखाकर पत्रकार शम्भू सिंह सहित तीन लोगो की गिरफ्तारी दिखाकर जेल भेज दिया जबकि सूत्रो का कहना है कि चर्चित उपनिरीक्षक तस्करों से बरामद किए गये शराब मे से बड़ी मात्रा में शराब निकालकर ठिकाने लगा देता था और थोड़ी-बहुत मात्रा में शराब बरामदगी दिखता था। इसके बाद बाकी बचे शराब को अपने विश्वासपात्र लोगो के माध्यम से उसी शराब को तस्करों के हाथो बेंच देता था।आरोप तो यह भी है कि यह अवैध शराब की तस्करी केवल चर्चित दरोगा अपने दम पर नही करता था। बल्कि उसके इस अवैध कारोबार मे थाने के जिम्मेदार लोग भी शामिल है लेकिन वर्दी दागदार न हो इस लिए खाकी ने खाकी को बचाने के लिए पूरे प्रकरण पर ही पर्दा डाल दिया। सूत्रो का दावा है कि इस पूरे प्रकरण की उच्चस्तरीय जांच हो जाए तो न सिर्फ पटहेरवा पुलिस का असली चेहरा से सामने आ जायेगा बल्कि शराब व पशु तस्करी का एक बहुत बड़ा रैकेट बेनकाब होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *