विधवा महिला परिवार रजिस्टर में अपना नाम दर्ज कराने के लिये दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर

बाराबंकी उत्तर प्रदेश : एक विधवा महिला परिवार रजिस्टर में अपना नाम दर्ज कराने के लिये दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर हो रही है लेकिन अधिकारी उसकी सुनवाई नही कि जा रही है जिससे वह हैरान परेशान है, ऐसा ही मामला तब संज्ञान में आया है जब पीड़ित विधवा महिला मुख्यमंत्री समेत आला अधिकारियों को पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई है। मामला थाना जैदपुर के ग्राम टिकरा का है। पीड़ित महिला माया उर्फ सबीना ने बताया कि उसने 12 दिसम्बर 2017 मे ग्राम टिकरा निवासी अब्दुल गनी के साथ मुस्लिम के रीति रिवाज के अनुसार निकाह किया व कोर्ट मैरिज भी किया था। पीड़ित तभी से पति पत्नी के रूप में रह रहे थे।

पुलिस अधीक्षक ने पुलिसकर्मियों की सहायता से दिया 18 लाख 19 हजार का चेक

माया उर्फ सबीना ने बताया कि उसके पैरों तले तब जमीन निकल गई जब पति अब्दुल गनी की बीती 2 जून 2020 को उसकी मृत्यु हो गई। तबसे पीड़िता अपने हक व अधिकार पाने के लिए परिवार रजिस्टर में अपना नाम दर्ज कराने के लिए हरख ब्लाक के चक्कर लगा रही हैं लेकिन अधिकारी उसकी सुनवाई नही कर रहे। जिससे वह दर-दर की ठोकरें खाने को विवश है। पीड़िता ने बताया कि वह न केवल इस संबंध मे खण्ड विकास अधिकारी से फरियाद लगा चुकी है बल्कि प्रधान एंव ग्राम विकास अधिकारी से भी कई बार मिलकर मिन्नते की लेकिन उसका नाम आज तक परिवार रजिस्टर पर दर्ज नही किया गया है

पुलिस ने पांच सौ गांजे के साथ एक अधेड़ को दबोचा

जिससे हैरान परेशान पीड़िता ने मुख्यमंत्री सहित आला अधिकारियों को प्रार्थना पत्र भेजकर न्याय के लिए गुहार लगा रही है ताकि उसे न्याय मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *