गेहूं किसानों को योगी सरकार ने दी बड़ी राहत

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार अब 22 जून तक किसानों से गेहूं खरीदेगी। इस बार सरकार ने रिकार्ड खरीद की है। 54.25 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीद सरकार ने 2018-19 का रिकार्ड तोड़ दिया है। हालांकि सरकार ने इस बार गेहूं खरीद का लक्ष्य नहीं तय किया था। गेहूं खरीद की अंतिम तारीख 15 जून तय की थी जिसे बढ़ा दिया गया है। यह जानकारी खाद्य विभाग आयुक्त मनीष चौहान ने दी है।
बताया गया कि अभी तक सरकार ने 54.25 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा है। इससे पहले 2018-19 में 52.92 लाख मीट्रिक टन की खरीद हुई थी। 2019-20 में 37.04 लाख मीट्रिक टन और 2020-21 में 35.76 लाख मीट्रिक टन की खरीद हुई थी। पिछले वर्ष की तुलना में इस बार 18.49 लाख मीट्रिक टन गेहूं अधिक खरीदा गया है। खाद्य आयुक्त ने बताया कि इस बार 1610637 किसानों ने ऑनलाइन पंजीकरण कराया था जबकि पिछले वर्ष 794484 किसानों ने पंजीकरण कराया था। इस वर्ष अब तक 1230024 किसानों से खरीद की गई है इस बार 566214 अधिक किसानों को लाभ मिला।

इस वर्ष सरकार 1975 रुपये प्रति कुन्तल की दर से गेहूं खरीद कर रही है। गेहूं खरीद एक अप्रैल से 15 जून तक तय की गई थी । नीति के मुताबिक इस वर्ष गेहूं खरीद का लक्ष्य नहीं तय किया गया था। 15 जून तक किसान जितना भी गेहूं लाते, खरीदा जाता। अब इसे 22 जून तक खरीदा जाएगा।
पिछले वर्ष सरकार ने 55 लाख मीट्रिक टन का लक्ष्य रखा था। इस वर्ष सरकार ने ई पॉप मशीनों के माध्यम से गेहूं खरीद की है यानी जब किसान की जगह कोई और आकर गेहूं नहीं बेच पाया। वहीं भी क्रय केन्द्रों की जियो टैगिंग कर कर किसानों को ऑनलाइन टोकन दिया गया। नंबर आने पर ही किसान क्रय केन्द्र पहुंचे। इस बार लगभग छह हजार क्रय केन्द्र बनाए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *